www kya hai ? World Wide Web इतिहास, वर्किंग, गुण, एप्लीकेशन क्या है।

www in Hindi – नमस्कार दोस्तों आज हम आपको बहुत ही खास पोस्ट के वारे में बताने जा रहे हैं जिसकी जरूरत सभी को है और जब तक इंटरनेट रहेगा तब तक सभी को इसकी जरूरत पड़ेगी www बहुत सी वेबसाइट उपलब्ध होती हैं वर्ल्ड वाइड वेब उपयोगकर्ता को बहुत अधिक मात्रा में सोचना तथा ज्ञान उपलब्ध कराता है वर्ल्ड वाइड वेब इन सूचनाओं को वेब पेज पर दर्शाता है बड़े उद्योग तथा कंपनियां अपनी कंपनियों के कार्य तथा अनुसंधान जानकारी इन वेबसाइट पर उपलब्ध कराती हैं। इस पोस्ट में हम आपको www (World Wide Web) क्या है? इतिहास, वर्किंग, गुण, एप्लीकेशन क्या है। की पूरी पूरी जानकारी देंगे। जिससे आपको कही और जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। तो चलिए दोस्तों शुरू करते है-

www (World Wide Web) क्या है?

  • www का अर्थ है वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web)
  • यह वास्तव में एक जाल के समान है जो संपूर्ण विश्व भर में फैला है विश्व भर में कंप्यूटर का उपग्रह द्वारा टेलीफोन तारों द्वारा आपस में जुड़कर एक जाल बन जाता है इस जल को ही इंटरनेट भी कहते हैं यह एक बड़ा नेटवर्क बन जाता है।
  • यह वेबसाइट कुछ मुख्य जानकारी कुछ चित्र तथा कुछ एन आकर्षक विशेषताओं जैसी भिन्न-भिन्न लिंग के साथ होते हैं प्रत्येक लिंग किसी अन्य वेबपेज से जुड़ा रहता है।
  • इंटरनेट पर देखने वाली वेब पेज का निर्माण फ्रंट पेज एक्सप्रेस html जैसे-सॉफ्टवेयर तथा प्रोग्रामिंग भाषा का प्रयोग कर किया जाता है वर्ल्ड वाइड वेब पर वेबसाइट तथा वेब पेज जैसे शब्द पुनः प्रयोग किए जाते हैं वर्ल्ड वाइड वेब आधुनिक समय में कई कार्य की जा सकते है।

यह महत्वपूर्ण कार्य निम्नलिखित हैं –

कंपनी में तथा उनके विषय में जानकारी यह सभी कुछ प्रत्येक वेबसाइट पर उपलब्ध रहती है।

उपयोगकर्ता वर्ल्डवाइड वेब में हम समाचार पढ़ सकते हैं।

www पर कई समाचार पत्र तथा टीवी पर चैनल ताजा समाचार उपलब्ध कराते हैं।

उदाहरण के लिए कुछ समाचार सुविधा उपलब्ध कराने वाली वेबसाइट है।

  • www. jagran.com
  • www.Hindustan news.com

कुछ नई सॉफ्टवेयर भी वर्ल्ड वाइड वेब पर पॉपुलर रहते हैं उपयोगकर्ता इंटरनेट पर विभिन्न ऑनलाइन लाइब्रेरी अर्थात पुस्तकालय के सदस्य बनकर अपनी मनोवांछित पुस्तक भी पढ़ सकते हैं।

 

www (World Wide Web) का इतिहास 

इंटरनेट पर उपलब्ध फाइलों को ढूंढना तथा उसे डाउनलोड करने के लिए यूनिक्स में skills तथा विशेष टूल की आवश्यकता पड़ती थी।

टिम बर्नर्स ली (Tim Berners Lee)  को www.(World Wide Web) वर्ल्ड वाइड वेब का जनक कहा जाता है।

बेर्नेर्स यूरोपियन ऑर्गेनाइजेशन फॉर न्यूक्लियर रिसर्च (european organisation for nuclear research) स्विट्जरलैंड में काम कर रहे थे।

वह इंटरनेट का प्रयोग करने के जटिल विधि से बिल्कुल निराश हो चुके थे तथा हमेशा इन्हें आसानी से प्रयोग किए जाने वाले इंटरफेस प्रोग्राम की आवश्यकता का एहसास होता था ताकि इंटरनेट पर उपलब्ध जानकारी सूचना को आसानी से एकत्र किया जा सके।

सर्न (CERN) मैं उनके उन्हें कार्य के लिए इंटरनेट की आवश्यकता पड़ती थी इंटरनेट का उपयोग वह शोध तथा अपने शोधकर्ता मित्रों के साथ संपर्क करने में करते थे।

सन 1989 में उन्होंने वर्ल्ड वाइड वेब में के विकास के लिए सर्न (CERN) के इलेक्टोनिक्स एंड कंप्यूटरिंग फॉर फिजिक्स (electonics and computering for physics) विभाग को एक प्रस्ताव दिया लेकिन इस प्रस्ताव को बहुत अधिक मंजूरी नहीं मिली

फिर जब उन्होंने अपने मित्र Robert Calliao के साथ प्रस्ताव की अस्वीकृति के कारणों पर विचार करने के बाद जमा किया तब वह प्रस्ताव मंजूर किया गया और वर्ल्ड वाइड वेब के परियोजना  की अधिकारिक तौर पर शुरुआत हुई।

सन 1991 में इसके बारे में इंटरनेट प्रयोगकर्ता को सूचना मिली फिर भी शायद ही लोगों ने सोचा होगा कि अब इंटरनेट इतना सरल हो जाएगा।

फरवरी 1993 में नेशनल सेन्टर फॉर सुपर कम्पूटरिंग एप्लीकेशन्स (National Center FOR Super Computing Application NCSA) ने मोजैक (Mosaic) का पहला संस्करण विंडो के लिए बाजार में उपलब्ध कराया यह वर्ल्ड वाइड वेब के लिए बलिदान था जिसने वेब को सफलता के शिखर पर पहुंचा दिया

इसके अतिरिक्त मोजैक (Mosaic) को माउस के द्वारा भी संचालित किया जा सकता था अब प्रतियोगिता बगैर की-बोर्ड के इंटरनेट का आनंद उठा सकते थे जो कि इंटरनेट के क्षेत्र की एक अद्भुत प्रगति थी वेब अब केवल हाइपरटेक्स्ट प्रणाली ही नहीं था।

वर्ल्ड वाइड वेब के आविष्कार के पश्चात प्रतियोगिता को इंटरनेट के विभिन्न संसाधनों को एक्सेस करने के लिए विभिन्न टूल की आवश्यकता नहीं थी तथा वर्ल्ड वाइड वेब को हाइपरमीडिया भी कहा जाने लगा क्योंकि यह प्रोटोकॉल पर इस पर संयोजित text, वीडियो, आवाज़  तथा ग्राफिक्स एक साथ सूचना की एक इकाई के रूप में प्रदान करते थे वेब अब वैश्विक प्रणाली बन गया जिसे दुनिया भर में कहीं से भी एक्सेस किया जा सकता था।

मोजेक के आने के बाद तो भी वेब ने सफलता की आकाश को ही छू लिया सन 1994 में मुझे के पहले संस्करण के रिलीज के बाद वेब ने नेशनल साइंस फाउंडेशन बैकबोन पर गोफर से ज्यादा ट्रैफिक बना लिया था।

 

www (World Wide Web) की वर्किंग (working)

इंटरनेट सर्विस की बढती प्रसिद्ध के कारण दुनिया भर में व्यापार के क्षेत्र में बहुत तीवता से बदलाव आ रहे हैं वर्ल्ड वाइड वेब कन्सोटियम (W3C) वर्ल्ड वाइड वेब को एक “THE UNIVERSE OF NETWORK ACCESSIBLE INFORMATION, THE EMBODIMENT OF HUMAN KNOWLEDGE” परिभाषा दी है

नेटवर्क पर हाइपरटेक्स्ट इनफॉरमेशन के अध्ययन प्रदान करने के उद्देश्य एक प्रोजेक्ट की तरह www की शुरुआत हुई क्लाइंट और सर्वर के सभी एप्लीकेशन को वेब रखता है जो की क्लाइंट सर्वर प्रोटोकॉल हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल एचटीटीपी (HTTP) का उपयोग करते हैं साथ ही साथ ये जिस सर्वर पर होते हैं और जिन क्लाइंट के द्वारा इनको एक्सेस किया जाना है,

उनके रिसोर्स का उपयोग करके यह इंटरनेट पर कम्युनिकेट करते हैं और एचटीएमएल (HTML) में बनी टैक्स फाइल के फॉर्मेट में रहते हैं और इमेज, साउंड, मल्टीमीडिया, स्क्रिप्ट और अन्य फाइल में सहायक होते हैं एचटीएमएल (HTML) फाइल को वेब पेज कहा जाता है

जो की विभिन्न क्रमानुसार एंकर टैग द्वारा जुड़कर होम पेज से या टॉप पर से सभी पेज को लिंक जोड़ना कहते हैं वेबसाइट, वेब सर्विस पर संग्रह होती है व ऐसे सॉफ्टवेयर को रन करती है जो कि एचटीएमएल (HTML) के सर्वर का साइट को नियंत्रण करते हैं जैसे-विंडोज 2000 के लिए IIS (इंटरनेट इनफॉरमेशन सर्वर)

 

www (World Wide Web) के गुण 

www (World Wide Web) के निम्नलिखित गुण है –

  1. www इंटरनेट द्वारा प्रदान की जाने वाली सबसे पॉपुलर सर्विस है|
  2. वेब ब्राउज़र इसका क्लाइंट कंपोनेंट है |
  3. वेब सर्वर इसका सर्वर कंपोनेंट है |
  4. HTML (SGML) इसकी लैंग्वेज है |
  5. TCP/IP जिसमें HTML भी शामिल है इसका प्रोटोकॉल सूट है |
  6. इसके डॉक्यूमेंट वेबसाइट कहलाते हैं |

 

www (World Wide Web) के एप्लीकेशन

www (World Wide Web) के एप्लीकेशन निम्नलिखित है –

  1. यह ई-मेल सर्विस प्रदान करता है |
  2. यह चैटिंग सुविधा प्रदान करता है |
  3. यह ई-कॉमर्स और इ-सर्विस प्रदान करता है |
  4. यह न्यूज़ ग्रुप सर्विस प्रदान करता है |
  5. यह शिक्षक सेवाओं जैसी ऑनलाइन टीचिंग प्रदान करता है |
  6. यह मनोरंजन सेवाएं जैसे वीडियो गेम खेलने, म्यूजिक, शायरी, मूवी देखना इत्यादि प्रदान करता है।

 

FAQ

1. प्रत्येक वेबसाइट पर क्या उपलब्ध रहती है?

कंपनी में तथा उनके विषय में जानकारी यह सभी कुछ प्रत्येक वेबसाइट पर उपलब्ध रहती है

2. एचटीएमएल (HTML) फाइल को वेब पेज क्यो कहा जाता है?

एचटीएमएल (HTML) में बनी टैक्स फाइल के फॉर्मेट में रहते हैं और इमेज, साउंड, मल्टीमीडिया, स्क्रिप्ट और अन्य फाइल में सहायक होते हैं एचटीएमएल (HTML) फाइल को वेब पेज कहा जाता है

3. वर्ल्ड वाइड वेब कन्सोटियम (W3C) वर्ल्ड वाइड वेब को एक क्या परिभाषा दी गई है?

वर्ल्ड वाइड वेब कन्सोटियम (W3C) वर्ल्ड वाइड वेब को एक “THE UNIVERSE OF NETWORK ACCESSIBLE INFORMATION, THE EMBODIMENT OF HUMAN KNOWLEDGE” परिभाषा दी है

Conclusion (निष्कर्ष) 

तो दोस्तो मैने आपको इस पोस्ट में www (World Wide Web) क्या है? इतिहास, वर्किंग, गुण, एप्लीकेशन क्या है। के बारे में बहुत ही अच्छे से बताया है अगर आप www kya hai इस पोस्ट से रिलेटेड कुछ पूछना चाहते है या इसी तरह की और पोस्ट के बारे में जानकारी चाहते है तो आप मुझे comment करे और अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे।

 

 

Leave a Comment